स्मृति शेष (विशेष)

परम पूज्य महामना मदन मोहन मालवीय जी एक युग महापुरुष रहनै। 25 दिसंबर 1861 ई0 में पंडित ब्रजनाथ आउर श्रीमती मुन्ना देवी के बेटा के रूप में जन्म लेहनै । ब्रजनाथ व्यास जी के पवित्र आउर  सात्विक गुड़न क भरपूर प्रभाव मदन मोहन मालवीय जी में बचपने  से दिखाए लगल । घर में प्रारंभिक शिक्षा के बाद उनके पंडित हरदेव जी के धर्म ज्ञानोपदेश पाठशाला मे भेजल गयल। पंडित जी अपने शिष्यन के अपने बचवा जैसे मानै। दूध पियावै अउर कसरत करावै । कुश्ती भी लड़वावै । उनकर इहे ध्येय…

Read More

भोजपुरी कहावतें

बिच्छी के मंतर ना आवे , साँप के बियरी हाथ बढ़ावे चोर चोरी से जाय , हेरा फेरी से ना ओरी तर के भूत जाने सात पुहुत हारे त हूरे जीते त थूरे गांठ के हलुक बात के धनी भर घर देवर भतार से ठाँठा बुझेली चिलम चढ़े ला अंगारी बिन घरनी घर भूत के डेरा ,घरनी अइली त भूतवे डेरा फटक चंद गिरधारी , लोटा ना थारी भइल बियाह मोर करबे का आनकर आटा आनकर घी , चाँप चाँप बाबाजी पिया भए कोतवाल अब डर काहे का ससुरा से…

Read More