शक्ति के ही त नाम नारी ह

ई धरती पर सब इन्सान चाहे पुरुष होखे चाहे ऊ महिला होखे आपन जन्म के अधिकार के साथ अपना के विकास करे के चाहे आपन सपना पूरा करे के सबके बराबर के समानधिकार त होए के ही चाही पर 21वी शताब्दी जहवा इन्सान चाँद पर पर पहुंच गईल बा है बकिये औरत के प्रति सोच समाज के आजो संक़ीर्ण बा ।आजो ई पुरुष प्रधान समाज में नारी के साथ ओकर लौगिंक आधार पर भेद..भाव करल जायें ला औउरी ओकरा के शारीरिक रुप से कमजोर समझ के हेय दृष्टि से देखल…

Read More

हे नारी तोहार केतना रूप

दुआर ओसार कुल साफ हो जायेके चाही , बाबू संझवे से सबके बिगड़त हउए । तनिको कही कसर ना रहे के चाही , बतायै देत हई । अबही हम स्कूले जात हई, देखी त मनेजर साहब काहे के बोलवले हउए । जब अपने घरे काम रहेला त बहरवौ अकाज पड़ल रहेला। अच्छा सुनत हउ कि ना हे भागवान , तोही से कहत हई । तनि बेटी के समझाय दिहा। माई बेचारी त गाय नियर ह। जवन बाबु कहि दें,  होखे के चाही । आज दिदिया के देखै बदे लइका वाले…

Read More

भोजपुरी लोकगीत में नारी

भारतीय संस्कृति में हर प्रकार से विविधता देखल जा सकल जाला। ई विविधता भोजपुरी की गहना बन जाले। एगो अलगे पहचान बन जाले। इहे विविधते त अपना भोजपुरी संस्कृति के विशिष्टता देला आ अलग पहचान बनावेला। एह संस्कृति आ पहचान के कवनो बनल-बनावल निश्चित ढ़ाँचा में नइखे गढ़ल जा सकत। ई त बलखात अल्हड़ नदी जइसन कवनो बान्हो से नइखे घेरा सकत। ई त ओह वसंती हवा जइसन बावली, मस्तमौला आ स्वतंत्र ह, जवना पर केहू के जोर ना चलेला। अपने मन के मालीक। एह के कवनो दिशा-निर्देश के माने-मतलब…

Read More