भोजपुरी गीत

जेकरा बुझाईल जइसन वइसन कहा गइल हाथी एगो अन्हरन के गांव में जब आ गइल ।। हार गइली अकिला फुआ त बुझे गइलन फूफा हथिया के कान छुअते कहे लगलन सूपा बुआ निहर उनके अकिले हेरा गइल हाथी एगो अन्हरन के गांव में जब आ गइल ।। थाक गइलन गब्बर सिंह तब अइलन शांभा हथिया के गोर छुहलन कहे लगलन खांभा थाह गब्बर, शांभा के एहिजन बुझा गइल हाथी एगो अन्हरन के गांव में जब आ गइल ।। मुखिया जी देखे अइनी ई का चमत्कार बा लागल जेकरा पीछे सगरो…

Read More

65 के बात बा

ताव बा मोछिया प छाती उतान बा, चले जब रहिया में भुईया हिलत सरकार बा, साचो के लागे इ उमिर काच बा ढेर नाही अभियो 65 के बात बा । नजर जब उठावे त रहिया होला खाली, रस भरल इनकर मीठ मीठ बोली, मनमोहक बाटे इनकर अंदाज हो ढेर नाही अभियो 65 के बात बा। दांते से छिले ले उखिया बरियार हो ठेहुन से तुरे ले उखिया दुटुक हो, रुनियो चबाले बरियार दांत से पट पट तुरेले अखरोठ दांत से, उमिर काच बा खाली 65 के बात बा । ऊपर…

Read More

अपने से अपने लोग हारेला हो

भरोशा ना करिह केहू पs कबो, बीच रहियें में जान लोग मारेला हो। बन के आपन देखा के मासूमियत, करेला घात दुश्मनी काढ़ेला हो। कुदरत के लिखल लेख केहू मिटा ना सके, ना त केहू ओकरा के टारेला हो। होनी होके रही लाख कोशिश कलs, अनहोनी से काहें लोग डरेला हो। कहें के सभ आपन केहू आपन ना होला, बोले के बड़ बड़ मुँह फारेला हो। एतने ले पेयार मोहब्बत रह गईल बा, मरला के बाद माँटी में गाड़ेला हो। देखत रहेला लोग हँवा के रोख, तबे बुतल दिया के…

Read More