माई अम्बें के जोत जगा के

माई अम्बें के जोत जगा के,नरियल आ फूलवा चढ़ा के )2 मइया शेरावाली के, मैया विन्ध्यावासनी के बार बार दुआर तोहरे, मैया हम आइब लाली चुनरिया माई, हम तोहके चढ़ाइब   अन्तरा- चढ़ते नवरात हे माई,दुआरे हम आइब फल–फूल,लडूवन के,माई भोगवा लगाईब)2 मैया थावेवाली के,मैया मैहरवाली के हम शीश झुकाइब लाली  चुनरिया माई, हम तोहके चढ़ाइब   माथे मुकुट शोभे, गले में शोभेला माला देख के रुपवा माई,धन धन लाल हो जाला बाघवा हुंकार भरे जब ,सगरी दुनिया डरेला माई तोहरे कीरपा से जग में सब काम टरेला   मइया शेरावाली…

Read More

पल-पल जिनगी घूटे इहवाँ

हमें घूमा द गांव सैंया,रहब ना शहर में पल-पल जिनगी घूटे, इहवाँ रहब ना शहर में   गांव के माटी शहर से सुंदर,जहां पीपल के छांव बा। शहर के एसी महल से भईया,टूटही पलानी ठांव बा। फ्रीज से जहवाँ बढ़िया पानी, मिलेला नहर में पल-पल जिनगी घूटे इहवाँ, रहब ना शहर में   धुआ शोर से दूर रहब हम,हरियाली के बीच। बाग में कोयल कुहुके जहांवा,पपीहा गावे गीत।। चैन के निनिया लेहब हम, आठों रे पहर में पल-पल जिनगी घूटे इहवाँ, रहब ना शहर में   खेतवा में लहराइल बाली, झूमेला…

Read More