कजरी

नीमिया गछिया प ढिलुहा लगाई द पिया सखियन के बोलाई द पिया ना।। ———————————————— पुरवा कइलस बेचैन देहिया बथे दिन रैन आव ढिलुहा लगा तु ढुलाई द पिया गरमी सुखाई द पिया ना।।१।। नीमिया गछिया प ढिलुहा——————– बड़ुए गोदिया में ललनावा गावसु सखी सभ गानावा तुहुं सखियन संग लईया मिलाई द पिया कजरी सुनाई द पिया ना।।२।। नीमिया गछिया प ढिलुहा——————– केशिया नागिन लेखा लहरे मुँह प आई आई के ठहरे केशिया बान्ह के तू जुड़ा बनाई द पिया सखियन के जराई द पिया ना।।३।। नीमिया गछिया प ढिलुहा——————— सईंया…

Read More