बदली जरूर

उमेद बा कि दुनिया बदली जरूर देखीं जुग राम के रावण के कन्हैया के चाणक्य-चंद्रगुप्त के अशोक के उनका भैया के का भइल? बदलिए नु गइल? चाहे रहल केहू केतनो मगरूर उमेद बा कि दुनिया बदली जरूर।। बदली त राग बदली रंग बदली बदलाव अकेले रउरे खातिर ना होई सबका संग बदली बदली त हवा बदली हाल बदली हमार तपस्या बदली राउर बवाल बदली माहौलो हो ता रंगीन समय नइखे दूर उमेद बा कि दुनिया बदली जरूर।। बदलाव कण कण में होई प्रीत में होई रण में होई लुकारी में…

Read More