आव भोजपुरी बचावल जाव

आव भोजपुरी बढ़ावल जाव अलख घरे-घरे जगावल जाव घऱे-घरे बोलल, जाव भोजपुरी आउर बतिआवल जाव भोजपुरी दुआ सलाम सबसे करावल जाव अलख घरे-घरे…………   जन आन्दोलन अब बावे जरुरी तबही नेता लोग करिहे जीहजूरी नई पीढ़ी के भाषा सिखावलजाव अलख घरे-घरे…………   वोट दिआई ओके जे आगे आई भोजपुरी के बात संसद मेंउठाई निमन के अगुआ बनावल जाव अलख घरे-घरे…………   होई बहिस्कार अब नेता समाजसे वादा खिलाफी जे करी अब समाजसे लाल अब ओके भगावल जाव अलख घरे-घरे…………   लालबिहारी लाल बदरपुर,नई दिल्ली-110044 ईमेल- lalkalamunch@rediffmail.com

Read More

बकैती

हाल बकैती चाल बकैती कतना मालामाल बकैती गुरबतिया के थाती रौंदत नापे छ्प्पन फाल बकैती ।   चौहद्दी मे चुगुली पोवत घरवें गले न दाल बकैती आन के सतुवा आन के घी चले शकुनिया चाल बकैती ।   चोरी कर सीनाजोरी से रोज बने भौकाल बकैती चमचे चमचे चानी बाजल चौचक चल चौताल बकैती ।   दाल – भात बीच मूसरचंद बनले बा खुसहाल बकैती अजुवो ले अनाज के दुसमन आन के खा निहाल बकैती ।   एने – ओने चोरी – लुक्का भरले बाटे , माल बकैती भोरे –…

Read More