एरी सखी

झुरवन महुइया के अनपत गछिया, एरी सखी! फुलवा चुएला अधरतिया, एरी सखी! अगतहीं जनतीं जे पिय बउरहिया, एरी सखी! बिरई में अगिया लगइतीं, एरी सखी! सपना के डहुँगी में अँकुरल टुसिया, एरी सखी! भँवरा करेले उतपतिया, एरी सखी! अगतहीं जनतीं जे, निफल ह सपना, एरी सखी! खुले नैना रयनि बितइतीं, एरी सखी! असरा क पाँखि थकल पातल देहिया, एरी सखी! पइतीं अलम तऽ सुहुतइतीं, एरी सखी! अगतहीं जनतीं जे बलम नियरवा, एरी सखी! बनि के सुगंधी लपटइतीं, एरी सखी! दिनेश पांडेय पटना

Read More