दहेज

बाप देखीं बेटा के, बोली लगवले बा | देवे वाला ख़ुशी से, गर्दन झुकवले बा || मोल भाव होता, देखीं सपना के || शान से बेचता, केहू अपना के ||   अरमान के होखता, खुला ब्यापार | नइखे पुछात, लईकी के बिचार || दहेज के भूख त, बढते जात बा ये भाई | पइसा के मोल से, देखीं गुंजी शहनाई ||   दहेज मांगल त, अब बन गईल बा शान | पाई पाई जोर के, पूरा कराता अरमान || कुरीति के निचे, आत्म सम्मान बा दबाइल | दे के दहेज…

Read More

स्मृति शेष (विशेष)

परम पूज्य महामना मदन मोहन मालवीय जी एक युग महापुरुष रहनै। 25 दिसंबर 1861 ई0 में पंडित ब्रजनाथ आउर श्रीमती मुन्ना देवी के बेटा के रूप में जन्म लेहनै । ब्रजनाथ व्यास जी के पवित्र आउर  सात्विक गुड़न क भरपूर प्रभाव मदन मोहन मालवीय जी में बचपने  से दिखाए लगल । घर में प्रारंभिक शिक्षा के बाद उनके पंडित हरदेव जी के धर्म ज्ञानोपदेश पाठशाला मे भेजल गयल। पंडित जी अपने शिष्यन के अपने बचवा जैसे मानै। दूध पियावै अउर कसरत करावै । कुश्ती भी लड़वावै । उनकर इहे ध्येय…

Read More

हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा बिहार विधानसभा के चुनाव अकेलही लड़े के घोषणा कइलस

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री अवुरी हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) के अध्यक्ष जीतनराम मांझी घोषणा कइलें कि उनुकर पार्टी बिहार विधानसभा के चुनाव अकेलही लड़ी  । मंगलवार के गया जिला के टनकुप्पा में पार्टी के कार्यकर्ता सम्मेलन के संबोधित करत मांझी कहले कि ‘केहु हमरा पार्टी के साथ देवे चाहे मत देवे, बिहार में हमनी के अकेले चुनाव लड़ेके।’ मांझी के ए बयान से साफ बा कि उ भाजपा के अगुवाई वाली एनडीए से उनकर रिसता नीमन नइखे भा इ उनुका दबाव बनावे के राजनीति बा । हालाँकि बिहार विधानसभा के…

Read More

जिनगी के रंगवा

जिनगी के रंगवा ह पानी-पानी । सभकर बा दुःख भरल कहानी ।   उहे बा हाल सवाल जइसन गति तोहार राम कृपा से आईत कबो जिनगी मे बहार कबो जरेला कबो बंद चुहानी।   जिनगी के रंगवा ह पानी-पानी । सभकर बा दुःख भरल कहानी ।   लिहल सांसवा दुभर कतहि आंख भी नम कतहि ढेर बा अन्हार कतहि तनिका सा कम गरीबी बा मिलल अमर निशानी ।   जिनगी के रंगवा ह पानी-पानी । सभकर बा दुःख भरल कहानी ।   मेहनतकश जे बा हंसत मजदूरी करे कामचोर के…

Read More