दिल्ली के 20 विधायक अयोग्य करार

दिल्ली के केजरीवाल सरकार  पर एह घरी  एगो नया संकट आइल बा । प्रशांत पटेल के जनहित याचिका के धियान राखत चुनाव आयोग के बैठकी मे 20 विधायक लोगन के लाभ के पद पर रहला खाति अयोग्य करार दिया गइल बा । लाभ के पद से जुडल मामला में चुनाव आयोग आम आदमी पार्टी के 20 विधायक के सदस्यता रद्द करे के सिफ़ारिश राष्ट्रपति लगे भेज के ए संकट के पैदा कईले बा। अब ए लोग के बारे में अंतिम फैसला राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द करिहे। राष्ट्रपति के फैसला अब तय…

Read More

खेलवना

भोजपुरी संस्कार गीतन में #खेलवना के बहुत महत्व बा। बालक भइला की खुसी में गावे जाएवाला #सोहर का बाद #खेलवना सबसे जिआदे गावल जाला। सोहर के जहाँ एगो निस्चित छन्द आ लय बा, उहें खेलवना गीतन में ई बन्हान नइखे। कवनो छन्द आ लय में पुरहर मस्ती से #खेलवना गावल जाला। #खेलवना अजबे आनन्ददायक मांगलिक गीत ह, जवना में बालक के रूप- रङग, उठल- बइठल, खेलल- कूदल, हँसल- रोवल, चाल- ढाल आ बाबा- इआ, माई- बाबूजी, भाई- भउजाई, चाचा- चाची के छलकत नेह- दुलार के बरनन होला। ए हिसाब से #तलसीदास जी के ठुमुकि चलत…

Read More

हई रहन

कान फारे वाला ई,कईसन बा शोर हिन्दू आ मुस्लिम प,काहे बा ज़ोर। कतहुँ बा,बड़ अउरी छोट के लड़ाई भेद भाव सगरे बा,कवन ई पढाई । जबसे आरक्षण के,ज़हर बा घोराइल कतने धुरंधर के किस्मत फोराइल। ब्राह्मण के गारी, आ हरिजन के पूजा नेतन के पेंच बा ई,काम ना बा दूजा। जाते आ पांत से ,समाज के बंटाता बड़ हमार धरम ,इहे भाषण छंटाता। अइसन बा करनी त, करी के बड़ाई मुखीये बा बगदल त, करी के कड़ाई। कवनो भी शास्त्र पढीं, एके सनेश बा खून बावे एके खानी,काहे कलेश बा।…

Read More

बदलाव

तारण-भारण धान सुखावल, कूट-छांट के चाउर बनावल । बालू गरम कई फरूही फुटावल, जांत चला के चउरठ बनावल । पाग करेला मिठा खउलावल, लाई कसार आ तिलवा बनावल । खोजले ना गंउआं में भेंटाई, अपने संगवा ले गइली दाई । लिपल-पोतल संझवत देखावल, देवता पित्तर के सदा गोहरावल । आजी के रोजो गोर टघरावल, आजा के पीठी मुक्की लगावल । माल-जाल के पखेव पहुँचावल, लाला के हंस घुघुआ खेलावल । कहवाँ दू ई सब गइल लूकाई अकेले अंगना अगोरतारी माई । पखे-पखे ममहर-फुफुहर धावल, लचका डाढ़ के झुलुआ बनावल ।…

Read More

चुनरिया ए बालम

तिकवेले भरि भरि नजरिया ए बालम रंगब रउरे रंग मे चुनरिया ए बालम ॥   तोपले तोपाई न, लक़दक़ सेहरा करबे निबाह जब लागल इ लहरा निकलब जब तोहरी डहरिया ए बालम ॥ रंगब रउरे रंग मे चुनरिया ए बालम ॥   करके  करेज सभ उजरल महलिया सून कई गउवाँ के साँकर गलिया चलि अइली तोहरी दुवरिया ए बालम ॥ रंगब रउरे रंग मे चुनरिया ए बालम ॥   खनका के कँगना उड़ी जाई सुगना अचके पसर जाई , लोर भरि अँगना बिछी जब ललकी सेजरिया ए बालम ॥ रंगब…

Read More