हाइकू

थिर बयारि
रसबूनीं बरिसऽ
आतुर मेघा

खखन पौध
घन मानर बाजे
आवऽ अब त

साँवर मेहा
आँख चोरावे चान
नींदरि माते

देख तनी-सा
बेदरदी ह नेह
भरल बावड़ी

उमड़ल हा
सुबहिते निकसी
हूक कि प्राण

  • दिनेश पांडेय

Related posts

Leave a Comment