विदाई गीत

बोलिया में तोर बेटी घोरल बा मिठइया

ले ले जालु आज तूँ, बिटोर हो

मनवा सोचेला के अब चहकी अंगनइया

देले जालु अँखिया में लोर हो…..|

नेहिया के दुनिया में पंउआ धरेलू
तरे तरे हियवा में काहे हो हहरेलू
अलगे अंगनवा में बिलखेली मइया
हियवा हमरो कमजोर हो….. |

जनलीं ना जिनगी से बोलिया छिनाई
नेहिया में बेटी छुटी, लोरवा बिनाई
लोरवा के मोतिया ना मोतिया के लोरवा
जियवा सहे ना हिचकोर हो…. |

मांगी त मांगी रे बेटी कइसे तोर हँसिया
हँसिया भइल रे जाला आज परदेसिया
नेहिया सनेहिया बा सुख के जिनिगिया बा
बाकि एेने बड़ुए हिलोर हो…. |

बोलिया के ले ले ना इयदिया तूँ जइह$
जइह$ त एहो बेटी जनि हो बिसरइह$
आजु के भोरवा भोरात नइखे भोरवा
पत्थर नाहीं हईं हम कठोर हो….. |

  • विद्या शंकर विद्यार्थी

Related posts

Leave a Comment