मी टू के बात

मी टू के बात चलल सगरों

तोपल बात उघारल जाई।

काटि चिकोटी कहीं पुचुकार

गाल बजाइ संभारल जाई ॥

 

नेता नपल अभिनेता नपल

संग नपल कविता कविताई।

लेख सुलेख आलेख क बाति

भाँतिs भाँति बतावल जाई॥

 

मंत्री संत्री डीयम सीयम

कब्र से मुअल निकालल जाई

सबके करनी के गीत सुभीत

ढ़ोल बजाय सुनावल जाई॥

 

नेह क गीत कढ़ावल गावल

लोग इहाँ भरमावल जाई।

आँखि मे लोर बचल कहवाँ

बाचल बाति सुनावल जाई।

 

प्रीत गढ़े केहू रीत गढ़े

गढ़ल गाढ़ देखावल जाई।

जब सूनि भइल मड़ई बखरी

नेह कहाँ से बचावल जाई॥

 

माथ प दाग सटल टिकुली अस

चान इहाँ लजवावल जाई।

फूल भा जूता क हार मिलल

साज बजाय जतावल जाई॥

 

  • जयशंकर प्रसाद द्विवेदी

 

Related posts

Leave a Comment