बदली जरूर

उमेद बा कि दुनिया
बदली जरूर
देखीं जुग राम के
रावण के
कन्हैया के
चाणक्य-चंद्रगुप्त के
अशोक के
उनका भैया के
का भइल?
बदलिए नु गइल?
चाहे रहल केहू केतनो मगरूर
उमेद बा कि दुनिया
बदली जरूर।।
बदली
त राग बदली
रंग बदली
बदलाव अकेले रउरे खातिर ना होई
सबका संग बदली
बदली त हवा बदली
हाल बदली
हमार तपस्या बदली
राउर बवाल बदली
माहौलो हो ता रंगीन
समय नइखे दूर
उमेद बा कि दुनिया
बदली जरूर।।
बदलाव कण कण में होई
प्रीत में होई
रण में होई
लुकारी में होई
पताका में होई
सबके संस्कृति-संस्कार
आ भाखा में होई
सथवे ईहो विश्वास बा
कि राउर ऊ बदलाव
लाठी आ भाला से ना
आंदोलन, आतंक आ मुँहे ताला से ना
बीख आ अंगार से ना
काँट के बखार से ना,
अइसन होई कि जुग-जुग करी गरूर
उमेद बा कि दुनिया
बदली जरूर।।
बदलाव होई
त प्यार से होई
आ जब प्यार से होई
तब बड़ा रफ़्तार से होई।
तब रउरो करेब उद्यम
कि केहू के रोवे के कवनो घड़ी ना रहे
रउरो पकडेब रफ़्तार
कि केहू अगड़ी-पिछड़ी ना रहे।
  • केशव मोहन पाण्डेय

Related posts

Leave a Comment