कजरी

आरे रामा मगन बाड़े त्रिपुरारी,
भोले भंडारी ए रामा … |

गावे उमड़ी घुमड़ी के बदरिया
खेले झिसी पच्चीसी फुहरिया रामा
आरे रामा संगवा में गउरा मतारी, मगन…. |

जल ढारे केहू बंम बोलेला
केहू बेदना में कंठवा खोलेला रामा
आरे रामा जिनगी के कहे लाचारी, मगन…. |

टरे लागेला दुखवा पराला
कवनो बांझिन के अँचरा भराला रामा
आरे रामा अइला के देर बा दुआरी, मगन… |

कवन कवन महातम गाईं
जोगिया के आतम में बसाईं रामा
आरे रामा भगति में टेरीं पुकारीं, मगन…. |

  • विद्या शंकर विद्यार्थी

Related posts

Leave a Comment