कजरी

नीमिया गछिया प ढिलुहा लगाई द पिया
सखियन के बोलाई द पिया ना।।
————————————————
पुरवा कइलस बेचैन
देहिया बथे दिन रैन
आव ढिलुहा लगा तु ढुलाई द पिया
गरमी सुखाई द पिया ना।।१।।

नीमिया गछिया प ढिलुहा——————–

बड़ुए गोदिया में ललनावा
गावसु सखी सभ गानावा
तुहुं सखियन संग लईया मिलाई द पिया
कजरी सुनाई द पिया ना।।२।।

नीमिया गछिया प ढिलुहा——————–

केशिया नागिन लेखा लहरे
मुँह प आई आई के ठहरे
केशिया बान्ह के तू जुड़ा बनाई द पिया
सखियन के जराई द पिया ना।।३।।

नीमिया गछिया प ढिलुहा———————

सईंया लिहीं तनिका देर
गोड़ में बाथा भइल ढेर
बबुआ सुति गइले जाके सुताई द पिया
दूधवा पियाई द पिया ना।।४।।
नीमिया गछिया प ढिलुहा——————-२
~~~~~~~~~~~~~~~~~~
विमल कुमार
ग्राम +पोस्ट-जमुआँव
थाना-पीरो,भोजपुर,बिहार

Related posts

Leave a Comment